Breaking News
         

मोदी का सपोर्टर होता तो मेरी फिल्म में 17 कट नहीं लगते: मधुर भंडारकर

मेशा लीक से हट कर फिल्में बनाने वाले फिल्मकार मधुर भंडारकर एक बार फिर एक हार्ड हिटिंग सब्जेक्ट पर फिल्म लेकर आ रहे हैं. 1975 में इमरजेंसी के बैकड्रॉप पर बनीं फिल्म ‘इंदू सरकार’ ट्रेलर लॉन्च के समय से विवादों में घिरी है.




फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के बाद से ही फिल्म को देशभर में काफी विरोध झेलना पड़ रहा है. ये विरोध इतना ज्यादा है कि लीगल नोटिस से लेकर, पुतला फूंकने तक मधुर भंडारकर को काफी विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

सेंसर बोर्ड ने फिल्म में 17 कट लगाने को कहा है. अपनी फिल्म का गाना लॉन्च करने के सिलसिले में दिल्ली पहुंचे मधुर ने बताया- ‘सीबीएफसी ने 17 कट मांगे हैं. ये लेटर आज आया है मेरे पास, ये तो तय है कि मैं कट नहीं लगाऊंगा. मैं उस लेटर को अपनी लीगल टीम के साथ पढूंगा फिर सोचूंगा कि क्या करना है. अगर जरुरत पड़ी तो मैं दिल्ली में ट्रिब्यूनल कोर्ट में भी जाऊंगा.’

मधुर पर ये भी आरोप लगाया गया है कि वो मोदी के समर्थक हैं इसलिए विपक्ष को जवाब देने के मकसद से फिल्म को बीजेपी का समर्थन मिल रहा है. मधुर ने इस बात को खारिज करते हुए बताया- ‘अगर ऐसा होता तो मेरी फिल्म में 17 कट्स नहीं लगाए जा रहे होते. मुझे सेंसर बोर्ड आसानी से सर्टीफिकेट दे देती. मुझे ‘आरएसस’, ‘कम्यूनिस्ट’, ‘किशोर कुमार’, ‘अकाली’ और ‘जेपी नरायण’ जैसे शब्द हटाने को बोला गया है. लोगों ने सिर्फ ट्रेलर देखकर ही बवाल कर दिया है.’

Source AajTak




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *